पेंडिंग ऑर्डर स्ट्रैटजी (लंबित आदेश रणनीति)

पेंडिंग ऑर्डर स्ट्रैटजी (लंबित आदेश रणनीति) विदेशी मुद्रा ट्रेडर्स के बीच काफ़ी लोकप्रिय है। ऐसा इसलिए है क्योंकि काम की यह रणनीति काफ़ी कारगर है, और इसकी मदद से बाज़ार में हिस्सा लेने वाले पर मनोवैज्ञानिक दबाव कम होता है और वह कीमत में तेज़ बदलाव की स्थिति में लाभदायक पोज़िशन खोल पाता है। इस रणनीति की मदद से, फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग से मुनाफ़ा कई गुना बढ़ सकता है। ट्रेडिंग दक्षता बेहतर करने के लिए इसका उपयोग, नए और पेशेवर, दोनों ट्रेडर्स कर सकते हैं।

location of the indicator in the terminal
टर्मिनल में इंडिकेटर
का स्थान

पेंडिंग ऑर्डर रणनीति का इस्तेमाल कारगर तरीक़े से कैसे करें

अपने काम में इस रणनीति का सही ढंग से उपयोग करने के लिए, आपको वह मूल्य तय करना होगा, जिससे ऑर्डर निष्पादन, स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफ़िट ऑर्डर और ऑर्डर की मौजूदगी की अवधि निर्धारित होगी।

types of pending orders
पेंडिंग ऑर्डर के प्रकार
पेंडिंग ऑर्डर रणनीति निम्नलिखित क्रियाओं की पूर्ति पर आधारित है:
  • प्रवेश बिंदुओं का निर्धारण। उन्हें निर्धारित करने के कई तरीक़े हैं। एक तरीक़ा प्राथमिक प्रवेश बिंदुओं को निर्धारित करना है। इसके लिए, ट्रेडर को आवश्यक न्यूनतम मूल्य और अधिकतम मूल्य सीमा निर्धारित करनी होती है, जहाँ पहुंचने पर, रुझान अपनी गति जारी रखेगा।

    अगर कीमत कुछ समय तक एक ही प्राइस चैनल में चलती है, तो ट्रेडर किसी एक दिशा में ब्रेकडाउन की उम्मीद के साथ ऑर्डर के पैरामीटर सेट कर सकता है। कभी-कभी पेंडिंग ऑर्डर को इस उम्मीद के साथ दिया जाता है कि समर्थन या प्रतिरोध रेखा टूट जाएगी।

    इसके अलावा, ख़रीदारी (बाय लिमिट) और बिक्री (सेल लिमिट) की सीमा तय करने के ऑर्डर देना भी मुमकिन है। उन्हें इस उम्मीद के साथ दिया जाता है कि मूल्य उस ख़ास बिंदु तक पहुँच जाएगी। यहाँ, बाय लिमिट के लिए मूल्य वर्तमान कीमत की तुलना में कम होगी, और सेल लिमिट की मूल्य वर्तमान से ज़्यादा होगी और मूल्य वर्तमान रुझान की दिशा में मुड़ेगी। पेंडिंग ऑर्डर बाय स्टॉप के लिए, यह उम्मीद की जाती है कि मूल्य बढ़ोतरी (बुल) रुझान की तरफ़ आगे बढ़ना जारी रखेगी, जिसका अर्थ है कि क़ीमत बढ़ेगी। सेल स्टॉप के लिए सब कुछ इसके विपरीत रहता है, कीमत गिरावट (बियर) की रुझान की तरफ़ आगे बढ़ती रहनी चाहिए और उसे गिरकर उस स्तर की तरफ़ जाना चाहिए, जिस पर ऑर्डर दिया गया था।

    अगला तरीक़ा है ख़बरों का उपयोग करना। एक ट्रेडर को पहले से पता होना चाहिए कि प्रमुख ख़बरें कब जारी होने वाली हैं और वर्तमान मूल्य की तुलना में ज़्यादा या कम पर ऑर्डर प्लेस करना चाहिए। समाचार की पुष्टि होने पर, रुझान अपनी दिशा जारी रखेगा; अन्यथा, रिवर्सल होगा। किसी भी मामले में, ऑर्डर निष्पादित होंगे।

  • स्टॉप लॉस ऑर्डर देना। यह ऑर्डर ट्रेडर की ट्रेडिंग रणनीति और धन प्रबंधन के आधार पर दिया जाता है।

  • टेक प्रॉफ़िट ऑर्डर देना। यह पैरामीटर इस पर निर्भर करता है कि ट्रेडर की महत्वाकांक्षाएं क्या हैं और बाज़ार की वर्तमान स्थिति का विशेष मुद्रा जोड़ी पर क्या असर है। आपको संभावित मुनाफ़े के आकार और ट्रेंड रिवर्सल की संभावना का अंदाज़ा लगाना चाहिए।

  • ऑर्डर के अस्तित्व की शर्तें। इस रणनीति का यह पहलू ज़रूरी है। ट्रेडर द्वारा निर्धारित मापदंडों पर पेंडिंग ऑर्डर निष्पादित करने के लिए इसके समाप्ति समय को सेट करना पड़ता है। अन्यथा, ऑर्डर ट्रेडर की ट्रेडिंग रणनीति पर निष्पादित नहीं किया जा सकता है।

इसी तरह की बारीकियों को ध्यान में रखते हुए, पेंडिंग ऑर्डर रणनीति के कारगर उपयोग और फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग के नतीजों को बढ़ाने का तरीक़ा सीखना मुमकिन है।

लेखक: Justforex, 05.08.2017

पिछले लेख
सभी लेख
भारत में फॉरेक्स ट्रेड करने का सबसे सही समय
भारत में फॉरेक्स ट्रेड करने का सबसे सही समय क्या है? Justforex पर भारत में फॉरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए विस्तृत शेड्यूल प्राप्त करें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड
जानें कि भारत में फोरेक्स मार्केट में ट्रेडिंग कैसे शुरू की जाती है। कर्रेंसीज को ट्रेड करने के लिए सबसे अच्छा ब्रोकर और सबसे अच्छा समय चुनें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
क्या फॉरेक्स निवेश के लायक है?
क्या यह फॉरेक्स ट्रेडिंग शामिल होने लायक है? फॉरेक्स ट्रेड के लाभों के बारे में जानें और पता करें कि क्या यह आपके समय के लायक है।के लिए इस लेख को पढ़ें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें