भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड

फोरेक्स (FX) न केवल दुनिया का सबसे बड़ा फाइनेंशियल मार्केट है, बल्कि यह एक संभावित उच्च-लाभ देने वाली एक्टिविटी भी है जिसका फायदा बहुत से लोग उठाते हैं। सिर्फ एक इंटरनेट कनेक्शन के साथ, कोई भी दुनिया के किसी भी कोने से, दिन के किसी भी समय, कोट्स को फॉलो करके और ट्रेड्स को खोलकर पैसे कमा सकता है। इस आर्टिकल के ज़रिये पता लगाएं कि फोरेक्स ट्रेडर बनने के अवसर को क्यों नहीं छोड़ना चाहिए।

भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड

भारत में फोरेक्स ट्रेड क्यों करना चाहिए

लोग किसी अन्य फाइनेंशियल मार्केट के बजाय फोरेक्स मार्केट की ओर ही अपना रुख क्यों मोड़ते हैं इसकी कुछ वजह हैं। आइए उनमें से कुछ पर एक नज़र डालें:

  • फोरेक्स दुनिया का सबसे बड़ा फाइनेंशियल मार्केट है। इतने बड़े टर्नओवर वाला और कोई भी मार्केट नहीं है। इसके मुख्य करेंसी पेयर्स अत्यधिक लिक्विड हैं, जिसका मतलब है कि दिन के किसी भी समय में उन्हें खरीदने या बेचने में कोई समस्या नहीं है।
  • मार्केट में प्रवेश करने के लिए किसी को भी सर्टिफाइड ट्रेडर होने या कोई औपचारिक शिक्षा प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं है। ऑनलाइन ब्रोकरेज सिस्टम के विकास के साथ, 18 साल से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति एक साधारण ID वेरिफिकेशन प्रोसेस को पूरा करके एक ट्रेडिंग अकाउंट खोल सकता है।
  • फोरेक्स में एंट्री डिपॉजिट बहुत कम है। यहां तक कि $1 भी ट्रेड करने के लिए काफी है। यह व्यावहारिक रूप से कोशिश करने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति के लिए बहुत सुलभ बनाता है।
  • फोरेक्स में, आप बढ़ती और गिरती कीमतों दोनों से लाभ उठा सकते हैं। यह इस वजह से संभव है कि एक करेंसी पेयर को तब बेचा जा सकता है जब कीमत गिरने वाली हो और एक क्वोट की गई करेंसी से लाभ कमाया जा सकता हो।
  • फॉरेक्स सोमवार से शुक्रवार चौबीसों घंटे काम करता है। यह ट्रेडर्स को दिन के किसी भी समय में पैसा कमाने की अनुमति देता है।
  • प्रोफेशनल फोरेक्स ट्रेडर्स उच्च लेवरेज (1:3000 तक) का फायदा उठा सकते हैं और अपने डिस्पोजल में सीमित पैसे होने पर अपने लाभ को बढ़ा सकते हैं। ट्रेडर्स अपने कौशल और अपनी रणनीति के जोखिम के आधार पर लेवरेज लेवल चुन सकते हैं।

अधिक पढ़ें: 2021 में शुरुआती लोगों के लिए फोरेक्स ट्रेडिंग

करेंसी का कारोबार कैसे किया जाता है

क्योंकि किसी भी करेंसी को खरीदने/बेचने का मतलब किसी भी अन्य करेंसी से उसके लिए भुगतान करना है, इसलिए करेंसी का हमेशा पेयर्स में ट्रेड किया जाता है। वे FX मार्केट में जो ट्रेड करते हैं उसे <…>करेंसी पेयर्स<…> कहा जाता है। कई करेंसी पेयर्स होते हैं, उदाहरण के लिए, EUR/USD (यूरो/अमेरिकी डॉलर), USD/INR (अमेरिकी डॉलर/भारतीय रुपया), आदि। उनमें से दोनों में दो करेंसी होती हैं: एक बेस करेंसी (पेयर का पहला एलिमेंट) ) और एक क्वोट की गई करेंसी (दूसरा एलिमेंट)।

एक बेस करेंसी वह करेंसी है जिसे आप बाय ऑर्डर करते समय खरीदते हैं या सेल ऑर्डर करते समय बेचते हैं। एक क्वोट की गई करेंसी वह करेंसी है जिसका इस्तेमाल आप बेस करेंसी का भुगतान करने के लिए करते हैं या वह करेंसी जो आपको बेस करेंसी बेचते समय मिलती है। एक ट्रेड का इच्छित परिणाम कम से कम कीमत पर खरीदना है और जितना संभव हो उतनी ऊंची कीमत पर बेचना है। इन दोनों कीमतों के बीच के अंतर में एक ट्रेडर का लाभ शामिल होता है।

मान लीजिए आपको लगता है कि डॉलर के मुकाबले यूरो की कीमत में बढ़ोतरी होगी। फिर आप EUR/USD खरीदने का फैसला लेते हैं। इसका मतलब है कि आप इसके लिए डॉलर (क्वोटेड करेंसी) में भुगतान करके यूरो (बेस करेंसी) खरीदते हैं। अगर यूरो बढ़ता है, और आप EUR/USD को उसकी सबसे उच्च कीमत पर बेचते हैं, तो आपको ट्रेड से फायदा पहुंच सकता है। अगर आप जैसा सोचते हैं उसके विपरीत होता है, यूरो की कीमत में गिरावट आती है, ट्रेड असफल होता है, तो आप पैसे खो देते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ट्रेड खोलने का फैसला लेते समय, ट्रेडर्स केवल अनुमान नहीं लगाते हैं। वे कीमत की भविष्य की दिशा निर्धारित करने के लिए एक समग्र विश्लेषण करते हैं। इस विश्लेषण में टेक्निकल इंडीकेटर्स का इस्तेमाल और निम्नलिखित मैक्रोइकॉनॉमिक समाचार शामिल हो सकते हैं जो करेंसी कोट्स को प्रभावित कर सकते हैं।

मैं भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग कहां कर सकता हूँ?

एक ऑनलाइन ब्रोकरेज सिस्टम के माध्यम से काउंटर (OTC) पर कर्रेंसीज का कारोबार किया जाता है। ट्रेडर बनने के लिए ब्रोकर के साथ साइन अप करना और ट्रेडिंग अकाउंट खोलना आवश्यक है। बाजार में प्रवेश करने के लिए फॉर्मल ट्रेनिंग लेने या लाइसेंस प्राप्त करने की कोई आवश्यकता नहीं है। कोटेशन और ओपन ऑर्डर्स का पालन करने के लिए, ट्रेडर्स MetaTrader 4 या MetaTrader 5 जैसे ट्रेडिंग टर्मिनलों का इस्तेमाल करते हैं। एक ट्रेडिंग टर्मिनल वो सॉफ्टवेयर है जो कोट्स तक पहुंच प्रदान करता है और ट्रेडों को खोलने और बंद करने में सक्षम बनाता है।

भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड
MetaTrader 4

कैसे एक फोरेक्स अकाउंट खोलें और भारत में ट्रेडिंग करना शुरू करें

ब्रोकर के साथ रजिस्टर करके और ट्रेडिंग अकाउंट खोलकर कर्रेंसीज को ट्रेड करना शुरू करें। आज की तारीख में 18 साल से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन ब्रोकर के साथ ट्रेडिंग अकाउंट खोल सकता है। अपना व्यक्तिगत ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए लिंक फॉलो करें। ऐसा करने के लिए, आपको अपनी जानकारी को फॉर्म में भरना होगा और इसे सबमिट करना होगा। उसके बाद, एक छोटी सी वेरिफिकेशन प्रोसेस की ज़रूरत पड़ सकती है। एक बार जब आप इसे पूरा कर लेते हैं, तो आप डिपॉजिट कर सकते हैं और अपना पहला ट्रेड कर सकते हैं।

भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड

भारत में फोरेक्स मार्केट के संचालन का समय

फोरेक्स मार्केट सोमवार को सुबह 12:00 बजे से शनिवार को सुबह 3:30 बजे (IST) तक खुला रहता है। यह शेड्यूल इस तथ्य से निर्धारित है कि सभी तरह के मनी एक्सचेंज के लिए कोई यूनिवर्सल सेंटर नहीं है। दुनिया भर में कॉमर्स और ट्रेडिंग के कई केंद्र हैं। ट्रेडिंग वॉल्यूम के मामले में सबसे महत्वपूर्ण फ्रैंकफर्ट, लंदन और न्यूयॉर्क हैं। इसलिए, सबसे सक्रिय फोरेक्स ट्रेडिंग तब होती है जब यूरोपीय और उत्तरी अमेरिकी दोनों ट्रेडिंग सेशन्स खुले होते हैं। यह शाम 5:30 से 8:30 बजे (IST) के बीच होता है। अगर आप उस समय के आसपास अपनी ट्रेडिंग एक्टिविटीज को व्यवस्थित करते हैं, तो इससे आपका अच्छा फायदा होगा, खासकर अगर आप EUR/USD और GBP/USD जैसे करेंसी पेयर्स को ट्रेड करते हैं।

अंतिम शब्द

फोरेक्स ट्रेडिंग उन लोगों को बहुत उच्च लाभ प्रदान करता है जो इसे समय देते हैं और इसके लिए मेहनत करते हैं। कोई भी व्यक्ति एक ट्रेडिंग अकाउंट खोल सकता है और घर बैठे-बैठे करेंसी मार्केट से मुनाफा कमा सकता है। ट्रेडिंग शुरू करने के लिए, ब्रोकर के साथ अकाउंट खोलना और डिपॉजिट करना आवश्यक है। जो लोग ट्रेडिंग में पैसा निवेश करने के लिए तैयार नहीं हैं, वे एक टीचिंग (डेमो) अकाउंट खोल सकते हैं, जिसमें प्रॉफिट विड्रॉ करने की क्षमता को छोड़कर, एक स्टैंडर्ड अकाउंट के समान फंक्शन्स हैं। इस तरह के अकाउंट का मकसद नए लोगों को ट्रेडिंग की मूल बातें सिखाने में मदद करना है, न कि पैसा कमाने में। हमारे आर्टिकल्स के ज़रिये फोरेक्स के बारे में और अधिक जानें।

Justforex के बारे में

करेंसी ट्रेडिंग में अपना हाथ आज़माने के लिए Justforex पर एक डेमो अकाउंट खोलें। यह फाइनेंशियल मार्केट में ट्रेडिंग करना सीखने का सबसे अच्छा तरीका है। पैसे निवेश करने से पहले एक प्रैक्टिस अकाउंट आपको ट्रेडिंग की बेसिक बातों को सीखने और अपनी खुद की स्ट्रेटेजी बनाने में मदद करेगा। अपने भविष्य को संवारने के लिए आज ही ट्रेडिंग करना सीखें।

लेखक: Justforex, 14.09.2021

पिछले लेख
सभी लेख
भारत में फॉरेक्स ट्रेड करने का सबसे सही समय
भारत में फॉरेक्स ट्रेड करने का सबसे सही समय क्या है? Justforex पर भारत में फॉरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए विस्तृत शेड्यूल प्राप्त करें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड
जानें कि भारत में फोरेक्स मार्केट में ट्रेडिंग कैसे शुरू की जाती है। कर्रेंसीज को ट्रेड करने के लिए सबसे अच्छा ब्रोकर और सबसे अच्छा समय चुनें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
क्या फॉरेक्स निवेश के लायक है?
क्या यह फॉरेक्स ट्रेडिंग शामिल होने लायक है? फॉरेक्स ट्रेड के लाभों के बारे में जानें और पता करें कि क्या यह आपके समय के लायक है।के लिए इस लेख को पढ़ें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें