2022 शुरुआत करने वाले लोगों के लिए फोरेक्स ट्रेडिंग

परिचय

फोरेक्स (FX) का मतलब फॉरेन एक्सचेंज (विदेशी मुद्रा का लेन-देन) है। कल्पना कीजिए कि आप विदेश यात्रा कर रहे हैं। जिन चीजों का आपको ध्यान रखने की आवश्यकता है उनमें से एक उस देश की कुछ नकदी प्राप्त करना है जहाँ आप यात्रा करने की योजना बना रहे हैं। तो आप एक बैंक में जाते हैं और जिस देश में आप यात्रा कर रहे हैं उस देश की मुद्रा के लिए आपके पास अपने देश की जो मुद्रा है उसका आदान-प्रदान करते हैं। बैंक एक विशिष्ट (ख़ास) दर पर पैसे का आदान-प्रदान करता है। मुद्राओं के आदान-प्रदान की इस प्रक्रिया को फॉरेन एक्सचेंज कहा जाता है। लाभ कमाने के लिए फॉरेन एक्सचेंज का उपयोग कैसे किया जाता है, यह समझने में आपकी सहायता करने के लिए हमने इस लेख में फोरेक्स के कुछ बुनियादी सिद्धांतों को इकट्ठा किया है।

प्रमुख बातें

  • फोरेक्स एक ऐसा मार्केट है जहां मुद्राओं का आदान-प्रदान होता है।
  • मुद्राओं का हमेशा पेअर में ट्रेड किया जाता है, इसलिए फोरेक्स मार्केट के ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट को करेंसी पेअर कहा जाता है।
  • फोरेक्स अन्य बाजारों की तुलना में कुछ लाभ प्रदान करता है, जिसमें उच्च लिक्विडिटी, ट्रांजेक्शन की कम लागत और कम से कम डिपॉजिट की ज़रूरत शामिल हैं।
  • फोरेक्स से जुड़े मुख्य जोखिम, ट्रेंड्स को ठीक से नहीं समझना, लिवरेज के जोखिम और ब्रोकर के जोखिम हैं।

फोरेक्स क्या है और यह कैसे काम करता है?

तो, फोरेक्स मार्केट क्या है? FX को मुद्राओं के व्यापार के लिए एक बाजार के रूप में परिभाषित किया गया है। खरबों डॉलर के दैनिक कारोबार के साथ, फोरेक्स मार्केट अब दुनिया का सबसे बड़ा मार्केट है। बाजार विकेंद्रीकृत है, और व्यापार इलेक्ट्रॉनिक रूप से ओवर-द-काउंटर किया जाता है। यदि स्टॉक का कारोबार विशिष्ट स्थानों (जैसे, न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज) में किया जाता है, तो मुद्राओं का कारोबार एक विकेन्द्रीकृत डीलर नेटवर्क के माध्यम से दुनिया भर में किया जाता है।

फोरेक्स मार्केट रविवार शाम 4 बजे से शुक्रवार शाम 4 बजे केंद्रीय समयानुसार तक लगातार चलता रहता है। यह अनुसूची समय क्षेत्र के विशाल विस्तार के कारण है जहां फोरेक्स व्यापार होता है। चार ट्रेडिंग सेशंस हैं जो पूरे दिन एक दूसरे का अनुसरण करते हैं। वो हैं:

  • पैसिफिक सेशन
  • एशियाई सेशन
  • यूरोपीय सेशन
  • उत्तर अमेरिकी सेशन

प्रमुख प्रतिभागी

मुद्रा का आदान-प्रदान करने वाला कोई भी व्यक्ति फोरेक्स मार्केट का भागीदार होता है। व्यापार की मात्रा के लिए, सबसे प्रमुख बाजार खिलाड़ी केंद्रीय (सेंट्रल) और वाणिज्यिक (कमर्शियल) बैंक हैं। फोरेक्स मार्केट में बड़े निगम और हेज फंड भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ब्रोकर और डीलिंग सेंटर खरीदारों और विक्रेताओं के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करते हैं और अन्य बाजार सहभागियों के लिए व्यापार को सुलभ बनाते हैं। और अंतिम समूह व्यक्तिगत व्यापारी हैं, इसमें वे लोग शामिल हैं जो गैर-व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए धन का आदान-प्रदान करते हैं और जो दर में उतार-चढ़ाव पर सट्टा लगाने और लाभ कमाने के इच्छुक हैं। इस प्रकार, यदि आपने कभी पैसे का आदान-प्रदान किया है, तो आप खुद को फोरेक्स मार्केट भागीदार भी मान सकते हैं।

Forex market participants
फोरेक्स मार्केट सहभागियों

हेजिंग Vs. स्पेकुलेशन

फोरेक्स के बारे में व्यावसायिक अर्थों में बात करते समय (हमारे यात्रा उदाहरण से परे), हम आमतौर पर हेजिंग या स्पेकुलेशन के बारे में बात करते हैं।

वित्तीय दुनिया में "हेज करने" का अर्थ है किसी निवेश से जुड़े जोखिमों के जोखिम को सीमित करना। फोरेक्स के संदर्भ में, ये जोखिम अप्रत्याशित मुद्रा दर परिवर्तन हैं। अंतरराष्ट्रीय व्यापार और बड़ी रकम का संचालन करने वाली कंपनियां मुद्रा दर में उतार-चढ़ाव के कारण वित्तीय नुकसान का जोखिम उठाती हैं। इस जोखिम से खुद को बचाने के लिए वे फॉरेन एक्सचेंज मार्केट का इस्तेमाल करते हैं।

फोरेक्स में स्पेकुलेशन का तात्पर्य लाभ के लिए ट्रेडिंग करना है। और यह मार्केट का वह पक्ष है जो व्यक्तिगत ट्रेडर्स का ध्यान आकर्षित करता है। तो, कम शब्दों में, फोरेक्स लाभ कमाने के उद्देश्यों के लिए मुद्राओं के आदान-प्रदान की एक प्रक्रिया है। ट्रेडिंग के फैसले किसी मुद्रा की भविष्य की कीमत के बारे में भविष्यवाणियों पर आधारित होते हैं।

फोरेक्स का संक्षिप्त इतिहास

इसकी व्यापक परिभाषा में, मुद्रा विनिमय हजारों साल पहले पैसे के पहले उपयोग के बाद दिखाई दिया (पहले चट्टानों या शेल का इस्तेमाल किया जाता था)। हालाँकि, 1973 में हुई एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटना के बाद फोरेक्स विकसित होने लगा। उस वर्ष ब्रेटन वुड्स सिस्टम (वस्तु विनिमय प्रणाली) को समाप्त कर दिया गया और फ्रीली फ्लोटिंग करेंसी सिस्टम द्वारा बदल दिया गया। फ्लोटिंग विनिमय दर अब विश्व अर्थव्यवस्थाओं में हावी है और मुद्रा दरों के निर्धारण में नियामकों के बहुत कम या कोई हस्तक्षेप नहीं होने की घोषणा करती है। इसका मूल रूप से मतलब है कि मुद्रा की आपूर्ति और मांग के अनुसार मुद्रा दर में उतार-चढ़ाव हो रहा है।

1973 के बाद से, फोरेक्स में कुछ परिवर्तन हुए हैं। इंटरनेट का आना और ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर के विकास ने इसे आम जनता के लिए सुलभ बना दिया है। जैसे-जैसे ब्रोकरों की संख्या बढ़ रही थी और उनके बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ रही थी, स्प्रेड्स कम हो रहे थे, जिससे फोरेक्स खुदरा व्यापारियों के लिए और भी आकर्षक बाजार बन गया।

फोरेक्स ट्रेडिंग की मूल बातें

यदि आप एक ट्रेडिंग खाता खोलने और ट्रेडिंग शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आइए हम आपको प्रमुख फोरेक्स अवधारणाओं से परिचित कराते हैं। उन्हें समझने से आपको "फोरेक्स कैसे काम करता है?" प्रश्न का उत्तर खोजने में मदद मिलेगी।

करेंसी पेअर

तो वे फोरेक्स मार्केट में क्या ट्रेड करते हैं? फोरेक्स के वित्तीय साधन करेंसी पेअर हैं। एक करेंसी पेअर में दो मुद्राएं (बेस करेंसी और कोटेड करेंसी) होती हैं। EUR/USD पेअर में, EUR एक बेस करेंसी है, और USD एक कोटेड करेंसी है। बेस करेंसी वह है जिसे हम ऑर्डर खोलते समय खरीदते या बेचते हैं। मूल मुद्रा की कीमत को दर्शाने के लिए कोटेड करेंसी मौजूद होती है। आइए एक उदाहरण देखें।

जोश एक अमेरिकी हैं जो एक सप्ताह के लिए यूरोप जा रहा है। वह €500 खरीदने के लिए बैंक जाता है। यूरो पाने के लिए, उसे €500 के बराबर डॉलर का भुगतान करना होगा। यहां, EUR एक बेस करेंसी है, और USD एक कोटेड करेंसी है।

क्वोट

प्रत्येक करेंसी पेअर एक क्वोट (कोटेशन) के साथ होती है। क्वोट एक मुद्रा विनिमय दर है। बैंकों में कोटेशन के विपरीत, ट्रेडिंग टर्मिनल में क्वोट कुछ हद तक 1.18096 की तरह दिखाई देंगे, जो "पिप्स" के रूप में जानी जाने वाली मुद्रा की कीमत का सबसे छोटे एलिमेंट दिखाते हैं।

यदि जोश देखता है कि EUR/USD = 1.18 है, तो वह आसानी से गिन सकता है कि उसे कितनी कोटेड मुद्रा (USD) का भुगतान करना होगा। 500 × 1.18 = $590.

पिप

बड़ी रकम का आदान-प्रदान करते समय (और पेशेवर व्यापारी यही करते हैं), विनिमय दर के थोड़े से भी अंतर से फर्क पड़ता है। सबसे छोटा परिवर्तन जो हो सकता है वह एक पिप है। नीचे दी गई तस्वीर कोटेशन का एक उदाहरण दिखाती है। पिप एक कोटेशन की अंतिम संख्या है। यदि यह 1.17451 से 1.17452 में बदल जाता है, तो हम कहेंगे कि पेअर ने एक पिप प्राप्त किया। 1 अंक के बराबर 10 पिप्स।

Pin in a quotation
कोटेशन में पॉइंट

ट्रेडिंग टर्मिनल में चार्ट को देखते समय, यह नोटिस करना आसान होता है कि कोटेशन कितनी बार बदलता है। एक सेकंड में यह 1.18397 है, फिर यह 1.18395 हो जाता है, और फिर 1.18397 पर वापस आ जाता है। ये कदम बाजार में मौजूद सभी व्यापारियों द्वारा निर्धारित आपूर्ति/मांग अनुपात द्वारा उचित हैं। जब कार निर्माता जैसे कुछ बड़े खिलाड़ी करोड़ों डॉलर का आदान-प्रदान करते हैं, तो क्वोट केवल कुछ पिप्स हासिल करने या खोने की तुलना में अधिक नाटकीय रूप से बदल सकती है।

बिड और आस्क

करेंसी की कीमत आमतौर पर दो नंबरों में दिखाई देती है। उन्हें बिड और आस्क प्राइस कहा जाता है। आस्क प्राइस वह कीमत है जो आपको मुद्रा की एक इकाई खरीदने के लिए चुकानी पड़ती है। इसके विपरीत, बिड प्राइस वह कीमत है जो आपको मुद्रा की एक इकाई बेचकर प्राप्त होती है।

यदि जोश ने उसी दिन अपनी यात्रा रद्द कर दी और €500 वापस बेचने का फैसला किया, तो वह इसे एक अलग दर पर करेगा - €1 के लिए $1.16। तो 500 × 1.16 = $580। नतीजतन, उसे बिड और आस्क प्राइस के अंतर के कारण $10 का नुकसान होगा।

स्प्रेड

यदि आपने कभी किसी बैंक या मुद्रा विनिमय कियोस्क में पैसे का आदान-प्रदान किया है, तो आपने भी शायद देखा होगा कि मुद्राओं की खरीद और बिक्री की कीमतें हमेशा अलग होती हैं। बिक्री मूल्य हमेशा क्रय मूल्य से अधिक होता है। कम दर पर मुद्रा खरीदना और उसे उच्च दर पर बेचना इन कार्यों को बैंक के लिए फायदेमंद बनाता है।

फोरेक्स में, ब्रोकरों पर भी यही बात लागू होती है। उन्हें बिड और आस्क प्राइस से फायदा होता है, जिसे स्प्रेड के रूप में जाना जाता है। सबसे कम स्प्रेड देने वाले ब्रोकर के साथ ट्रेड करना ट्रेडर के हित में है। आइए नीचे दिए गए उदाहरण पर एक नजर डालते हैं।

Price spread
EUR/USD जोड़े की बिड प्राइस 1.17451 है, और आस्क प्राइस 1.17461 है। 1.17461 - 1.17451 = 10. स्प्रेड 10 पॉइंट या 1 पिप है।

EUR/USD, GBP/USD, USDJPY, USD/CAD, आदि सहित सबसे लोकप्रिय करेंसी पेअर के लिए स्प्रेड आमतौर पर कम (1-3 अंक) होते हैं। कम बार ट्रेडिंग करने वाले करेंसी पेअर में अपेक्षाकृत उच्च स्प्रेड होता है।

लॉट

मुद्रा जोड़े का कारोबार विशिष्ट मात्रा में किया जाता है जिसे लॉट कहा जाता है। सबसे आम लॉट की साइज हैं:

  • एक मानक लॉट जो बेस करेंसी की 100,000 इकाइयों के बराबर होता है;
  • एक मिनी लॉट (या 0.1 लॉट) बेस करेंसी की 10,000 इकाइयों के बराबर होता है;
  • एक माइक्रो लॉट (0.01 लॉट) बेस करेंसी की 1,000 इकाइयों का व्यापार करने की अनुमति देता है।

ब्रोकर

फोरेक्स ब्रोकर एक ऐसी कंपनी है जो एक व्यापारी और एक मुद्रा बाजार के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करती है, जो एक ट्रेडिंग मंच तक पहुंच प्रदान करती है। प्रत्येक फोरेक्स ब्रोकर अलग-अलग ट्रेडिंग स्थितियां प्रदान करतें हैं, और यह ट्रेडर के हित में है कि वह सबसे अधिक लाभकारी ब्रोकर का चयन करे।

ब्रोकर चुनते समय, इस तरह के चीजों पर विचार करना महत्वपूर्ण है:

  • ट्रेडिंग शर्तें (छोटे स्प्रेड, कोई निकासी शुल्क नहीं, आदि);
  • इंस्ट्रूमेंट्स की विविधता (जितना अधिक, उतना बेहतर);
  • कुशल ग्राहक सहायता (चौबीसों घंटे उपलब्ध);
  • लाइसेंस (अधिक सुरक्षित माना जाता है);
  • विश्वसनीय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म।

लिवरेज

लिवरेज एक ऐसा उपकरण है जो ट्रेडर्स को अपेक्षाकृत छोटे निवेश के साथ अधिक लाभ प्राप्त करने की अनुमति देता है। दूसरे शब्दों में, यह किसी तीसरे पक्ष का धन है जिसका उपयोग किसी के ट्रेड में आय को बढ़ाने के उद्देश्य से किया जाता है। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने फंड में से $1,000 जमा करने के इच्छुक हैं और 1:100 लीवरेज का लाभ उठाते हैं, तो आप $100,000 का ट्रेड कर सकते हैं। पेशेवर ट्रेडर अक्सर लिवरेज का उपयोग करते हैं।

जाहिर है, लिवरेज का उपयोग न केवल संभावित लाभ को बढ़ाता है बल्कि वित्तीय नुकसान के जोखिम को भी बढ़ाता है। भले ही ऐसे मैकेनिज्म हैं जो एक ट्रेडर को नेगेटिव बैलेंस के साथ समाप्त होने से बचाएंगे, लीवरेज की ओर मुड़ने से पहले जोखिम को ​संभालना सीखन आवश्यक है।

मार्जिन

मार्जिन लीवरेज से जुड़ा एक शब्द है। यह वह राशि है जो एक ट्रेडर को लीवरेज्ड पोजीशन में प्रवेश करने के लिए जमा करनी पड़ती है। लीवरेज प्राप्त करने के लिए आवश्यक धनराशि को मार्जिन आवश्यकता कहा जाता है। यह आवश्यकता किसी ट्रेड के 1% जितनी छोटी या उसके 20% जितनी बड़ी हो सकती है। मार्जिन आवश्यकता का आकार इस पर निर्भर करता है:

  • लीवरेज का आकार जो ट्रेडर प्राप्त करना चाहता है;
  • करेंसी पेअर जिसमे एक ट्रेडर ट्रेड करने की योजना बना रहा है।

Iऊपर के उदाहरण में, 1:100 लीवरेज के लिए मार्जिन आवश्यकता $1,000 है।

फोरेक्स ट्रेड कैसे करें

मुद्रा मूल्य की भविष्यवाणी कैसे करें?

अब तक यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि फोरेक्स में पैसा बनाने के लिए, भविष्य में किसी विशेष मुद्रा पेअर की कीमत क्या होगी, इसकी सही भविष्यवाणी करनी होगी। मूल्य चाल की भविष्यवाणी करने के लिए दो मुख्य दृष्टिकोण मौलिक और तकनीकी विश्लेषण हैं। मौलिक विश्लेषण राजनीतिक और व्यापक आर्थिक घटनाओं से संबंधित है जो किसी मुद्रा की कीमत को प्रभावित कर सकते हैं। इनमें अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों से लेकर ब्याज दर के संबंध में बैंक ऑफ जापान के फैसले तक सब कुछ शामिल हो सकता है। व्यावसायिक ट्रेडर अपनी ट्रेडिंग योजनाओं को बढ़ाने के लिए समाचारों का अनुसरण करते हैं।

तकनीकी विश्लेषण, बदले में, पिछले मार्केट डेटा का अध्ययन शामिल है, जैसे कि मूल्य और मात्रा परिवर्तन। यह विभिन्न तकनीकी संकेतकों को नियोजित करता है जो किसी निश्चित अवधि में मूल्य चाल का इतिहास दिखाते हैं। तकनीकी विश्लेषण के अनुयायियों का मानना ​​​​है कि प्राइस एक्शन खुद को दोहराती है, और मूल्य पैटर्न का अध्ययन यह निर्धारित करने में मदद करता है कि कीमत भविष्य में एक विशिष्ट समय पर कहां होगी। हालांकि दोनों प्रकार के विश्लेषणों के अपने फायदे और नुकसान होते हैं, अधिकांश ट्रेंड्स साक्ष्य के संयोजन के आधार पर अपने ट्रेडिंग निर्णय लेते हैं।

ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी

ट्रेडिंग के लिए अच्छे निर्णय एक गणना की गई रणनीति के अनुसार किए जाते हैं। अन्यथा, ट्रेडिंग जुए में बदल जाता है, जहां लाभ या हानि भाग्य के अलावा और कोई निर्धारित नहीं करता है। समस्या यह है कि भाग्य दुर्लभ है, और दांव ऊंचे हैं। यही कारण है कि एक अच्छी रणनीति पर टिके रहना महत्वपूर्ण है जो आपको सही रास्ते पर रखेगी। एक अच्छी तरह से डिज़ाइन की गई योजना आपको इस सवाल का जवाब देने में मदद करेगी कि सबसे अधिक लाभदायक तरीके से मुद्रा की ट्रेडिंग कैसे करें। कुछ सबसे सामान्य ट्रेडिंग दृष्टिकोणों में पोजीशन ट्रेडिंग , डे ट्रेडिंग , स्विंग ट्रेडिंग और स्कल्पिंग शामिल हैं। बदले में, ये दृष्टिकोण ट्रेडर्स को उनके लक्ष्यों तक पहुँचने में मदद करने के लिए कई रणनीतियाँ प्रदान करते हैं।

शुरुआत करने वाले लोगों के लिए सबसे बेहतरीन रणनीतियाँ

फोरेक्स में आधी सफलता एक अच्छी तरह से डिज़ाइन की गई और आज़माई गई रणनीति से मिलती है। फोरेक्स में एक रणनीति मुद्रा ट्रेडिंग से लाभ के उद्देश्य से कार्यों की एक निश्चित योजना है। चुनने के लिए कई रणनीतियाँ और उनकी विविधताएँ हैं। हालांकि, उनमें से प्रत्येक किसी भी ट्रेडर के अनुरूप नहीं हो सकती है। एक व्यक्तिगत ट्रेडर के लिए उपलब्ध लक्ष्य और संसाधनों द्वारा एक रणनीति विकल्प को उचित ठहराया जाना चाहिए। यह एक कारण है कि क्यों सही रणनीति चुनना आवश्यक है और समय बिताने लायक है।

यदि आप एक सरल और प्रभावी रणनीति के साथ शुरुआत करना चाहते हैं, तो हम समर्थन और प्रतिरोध स्तरों के आधार पर व्यापार करना सीखने की सलाह देते हैं। ये दो व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले तकनीकी संकेतक हैं जो यह निर्धारित करने में मदद करते हैं कि कीमत कब अपनी दिशा बदलेगी। इस रणनीति को 5 सरल चरणों में लागू किया जा सकता है:

  • समर्थन और प्रतिरोध की पहचान करें।
  • प्रतिरोध के लिए एक दिशात्मक कदम की प्रतीक्षा करें।
  • प्रतिरोध पर मूल्य अस्वीकृति की प्रतीक्षा करें।
  • अस्वीकृति के बाद अगली कैंडल पर एक शार्ट (बिक्री) करें, प्रतिरोध के ठीक ऊपर स्टॉप-लॉस सेट करें।
  • कीमत के समर्थन के करीब पहुंचने पर ट्रेड से बाहर निकलें।

विपरीत दिशा में समान कदम उठाए जा सकते हैं (समर्थन पर प्रवेश, प्रतिरोध पर बाहर निकलें)। ऊपर के उदाहरण में, यदि कीमत प्रतिरोध स्तर से टूटकर स्टॉप-लॉस से टकराती है तो ट्रेडर हार सकता है। इस मामले में, ऑर्डर स्वचालित रूप से बंद हो जाएगा, और ट्रेडर को मामूली नुकसान होगा। इसके विपरीत, सफल कार्यान्वयन से बड़ा लाभ होगा। इस प्रकार, प्रत्येक ट्रेड के जोखिम/इनाम अनुपात पर ध्यान देना सफलता की चाबी है।

कौनसे करेंसी पेअर को ट्रेड करें?

फोरेक्स बाजार में सबसे अधिक ट्रेड वाली मुद्राओं को अक्सर प्रमुख मुद्राएं या केवल प्रमुख कहा जाता है। इनमें EUR/USD, GBP/USD, USD/JPY, USD/CHF, AUD/USD, GBP/JPY, EUR/JPY, और USD/CAD शामिल हैं। ये पेअर सभी ट्रेडिंग वॉल्यूम का लगभग 90% हैं। अन्य सभी पेअर मामूली पेअर (GBP/CAD, CHF/JPY, NZD/JPY, आदि) और एक्सोटिक्स (उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं की मुद्राएं) हैं।

ट्रेडर्स संभावित लाभ के अवसरों के अनुसार एक करेंसी पेअर चुनते हैं। यह भी ध्यान देने योग्य है कि कुछ करेंसी पेअर विशेष रणनीतियों के साथ बढ़िया काम कर सकते हैं और दूसरों के साथ विफल हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, कैरी ट्रेडर्स उच्च इंटरस्ट रेट स्प्रेड्स (AUD/JPY और NZD/JPY) के साथ करेंसी पेअर में रुचि रखते हैं, जबकि स्केलपर्स अस्थिर पेअर की तलाश करते हैं।

हम शुरू करने वालों को सलाह देते हैं कि प्रमुख पेअर में से एक में ट्रेड का अभ्यास करें। इसका कारण यह है कि बड़ी कंपनियों के पास आमतौर पर काफी छोटे स्प्रेड्स होते हैं, जो आपकी लेन-देन की लागत को कम करता है।

फोरेक्स ट्रेड कैसे करें

किसी भी अन्य प्रकार के निवेश की तरह, फोरेक्स ट्रेडिंग में भी जोखिम होते हैं। इन जोखिमों को इस प्रकार विभाजित किया जा सकता है:

  • लिवरेज से जुड़े हुए जोखिम

    फोरेक्स उच्च मात्रा में लिवरेज प्रदान करता है। एक ओर जहाँ , यह एक अच्छी बात है क्योंकि यह अपेक्षाकृत छोटी जमा राशि वाले ट्रेडर्स को अपनी आय बढ़ाने की अनुमति देता है। वहीं दूसरी ओर, अनुभवहीन ट्रेडर्स द्वारा अप्रयुक्त रणनीतियों के आधार पर ट्रेडों में उपयोग किए जाने वाले लिवरेज के परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण नुकसान हो सकता है।

  • ट्रेंड्स को ठीक से न समझना

    मुद्रा के बारे में एक बात यह है कि बहुत सारी चीजें इसकी कीमत को प्रभावित कर सकती हैं। यह पहले ही कहा जा चुका है कि दुनिया की अधिकांश मुद्राएं आपूर्ति और मांग से संचालित होती हैं। आपूर्ति और मांग को क्या निर्धारित करती है? इन कारकों में मुद्रास्फीति दर, किसी विशेष देश का आर्थिक प्रदर्शन, ब्याज दरें और बहुत कुछ शामिल हैं। यही कारण है कि भविष्य में किसी मुद्रा की कीमतों में उतार-चढ़ाव की भविष्यवाणी करना इतना कठिन हो सकता है।

  • ब्रोकर से जुड़े हुए जोखिम

    ब्रोकर की शर्तों पर पर्याप्त ध्यान न देना एक नौसिखिए ट्रेडर की सबसे बड़ी गलतियों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि जिस ब्रोकर के साथ आप डील करना चाहते हैं वह भरोसेमंद है और आपके खिलाफ ट्रेड नहीं करेगा, अपना शोध करें। जांचें कि क्या ब्रोकर के पास लाइसेंस है, ट्रेडिंग शर्तों के बारे में ध्यान से पढ़ें, और समीक्षाओं की जांच करें।

फोरेक्स ट्रेड क्यों करें?

फोरेक्स अन्य बाजारों की तुलना में कई फायदे प्रदान करता है, और यह नीचे बताए गए फायदों तक ही सिमित नहीं है।

  • लिक्विडिटी

    मुद्राएं अन्य प्रकार की संपत्तियों से सबसे अधिक लिक्विड हैं। किसी एक खास एसेट की लिक्विडिटी आसान होती है जिस पर इस एसेट को कैश में बदला जा सकता है। एक नकद संपत्ति रखने से एक ट्रेडर को बाजार की चाल पर जल्दी से प्रतिक्रिया करने की अनुमति मिलती है और अनचाहे उतार-चढ़ाव के होने पर तुरंत एक ट्रेड से बाहर निकल जाता है। यह वही है जो एक निवेशक के लिए फोरेक्स को एक आकर्षक बाजार बनाता है। हाई लिक्विडिटी का मतलब कम स्प्रेड भी होता है, जैसा कि आप पहले से ही जानते हैं, यह एक बड़ा फायदा है।

  • चौबीसों घंटे ट्रेडिंग

    अन्य बाजारों के विपरीत, फोरेक्स चौबीसों घंटे, सप्ताह में पांच दिन ट्रेडों का स्वागत करता है। इसका फिर से मतलब है कि आप किसी भी समय एक ट्रेड में प्रवेश कर सकते हैं और छोड़ सकते हैं जो आपको लगता है कि इसके लिए सबसे अच्छा है। स्टॉक के साथ इसकी तुलना करें - उदाहरण के लिए, न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 9:30 बजे से शाम 4:00 बजे तक कार्य करता है।

  • बढ़ती और गिरती कीमतों दोनों से लाभ की संभावना

    फोरेक्स डायरेक्शनल ट्रेडिंग पर कोई प्रतिबंध नहीं देता है, जिसका अर्थ है कि आप कमा सकते हैं भले ही संपत्ति की कीमत ऊपर या नीचे जाती है। वे कहते हैं कि एक ट्रेडर लॉन्ग करता है (एक करेंसी पेअर खरीदता है) जब इसकी कीमत बढ़ने वाली होती है। एक ट्रेडर शॉर्ट करता है (एक मुद्रा जोड़ी बेचता है) जब वह मूल्य खोने वाला होता है। करेंसी पेअर बेचने का अर्थ है कोटेड मुद्रा के पक्ष में मूल्यह्रास मुद्रा (बेस करेंसी) से छुटकारा पाना।

  • ट्रांजेक्शन की कम लागत

    सामान्य तौर पर, फोरेक्स ट्रेडर्स के पास छोटे लेनदेन शुल्क होते हैं जो या तो स्प्रेड्स या / और निकासी शुल्क का प्रतिनिधित्व करते हैं। हालांकि ये लागत हर एक ब्रोकर में भिन्न होती है, सामान्य तौर पर, फोरेक्स लेनदेन बहुत महंगा नहीं होता है।

  • कम से कम डिपॉजिट की ज़रूरत

    डिपॉजिट की आवश्यकताएं हर एक ब्रोकर में भिन्न होती हैं, लेकिन सामान्य तौर पर, अन्य बाजारों की तुलना में न्यूनतम प्रवेश सीमा अपेक्षाकृत कम होती है। उदाहरण के लिए, आप Justforex पर केवल $1 से फोरेक्स ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं। हालांकि इतना छोटा निवेश किसी प्रभावशाली रिटर्न का वादा नहीं करता है, लेकिन यह न्यूनतम जोखिम के साथ ट्रेडिंग सीखने का अवसर प्रदान करता है।

फोरेक्स ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर

ब्रोकर अपने ग्राहकों को विभिन्न ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करते हैं। उनमें से सबसे लोकप्रिय मेटा ट्रेडर 4 (MT4) है और इसका अपडेटेड वर्जन मेटा ट्रेडर 5 (MT5) है। मेटा ट्रेडर्स नौसिखिए ट्रेडर्स और अनुभवी लोगों के बीच लोकप्रिय हैं। MT4 और MT5 प्लेटफॉर्म के बीच अंतर यह है कि MT5 में कुछ और विश्लेषणात्मक उपकरण हैं, जैसे अतिरिक्त समय सीमा। इन सुधारों के बावजूद, कई ट्रेडर्स MT4 पसंद करते हैं क्योंकि यह हेजिंग फ़ंक्शन प्रदान करता है। हम अनुशंसा करते हैं कि आप दोनों प्लेटफार्मों को आजमाएं और चुनें कि कौन सा आपके लिए सबसे अच्छा काम करता है।

फोरेक्स सीखना कैसे शुरू करें

हम मुद्रा ट्रेडिंग में रुचि रखने वाले लोगों को सलाह देते हैं कि एक डेमो खाता खोलें और फोरेक्स ट्रेडिंग सीखने के लिए समय दें और अभ्यास करें। फोरेक्स पर किताबें पढ़ना एक अच्छा विचार है। आप कुछ उपयोगी साहित्य हमारी शीर्ष 5 सूची में पा सकते हैं। इन पुस्तकों में से एक आपके लिए एक वास्तविक फोरेक्स ट्रेडिंग ट्यूटोरियल बन सकता है और आपको यह समझाने में मदद करता है कि fx रणनीति क्या है। याद रखें कि अभ्यास और सीखने ने वारेन बफेट और जॉर्ज सोरोस जैसे लोगों को जहां वे अभी लाए हैं, लाए हैं। कुछ लोग मैराथन दौड़ने का फैसला करते अगर उन्हें लंबी दूरी तक दौड़ने का कोई अनुभव नहीं होता। उसी तरह, किसी को भी अपने पैसे को जोखिम में नहीं डालना चाहिए अगर उन्होंने पहले कभी ट्रेडिंग करने की कोशिश नहीं की।

एक बार जब आप अपनी विदेशी मुद्रा की शिक्षा (फोरेक्स एड्युकेशन) पर आत्मविश्वास हासिल कर लेते हैं और आपके हाथ एक आज़माई हुई रणनीति लग जाती है, तो एक वास्तविक ट्रेडिंग अकाउंट खोलें, निवेश करें, और फॉरेन एक्सचेंज मार्केट में पैसा कमाएं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

फॉरेक्स कितना मुश्किल है?

कम शब्दों में बताया जाए तो, फोरेक्स ट्रेड करना और सीखना इतना भी मुश्किल नहीं है अगर आप इसे अनुशासन और धीरज के साथ करते हैं। हाँ, आपको बहुत कुछ सीखना पड़ता है, लेकिन स्टेप-बाय-स्टेप मेथड से आप अच्छे से सीख पाएंगे।

फोरेक्स ट्रेडर्स एक दिन में कितने पैसे कमाते हैं?

यह उस रकम पर निर्भर करता है जितना आप निवेश करने के लिए तैयार हैं। मान लीजिये कि एक ट्रेडर जो हर महीने 50 बार ट्रेडिंग करता है (2-3 ट्रेड्स प्रति दिन/20 दिन प्रति माह) वह 500 की रकम के साथ लगभग 10 डॉलर प्रति माह कमा सकता है।

शुरुआती फोरेक्स ट्रेडर्स कितने पैसे कमाते हैं?

आपके प्रॉफिट की रकम आपके द्वारा निवेश की गई रकम पर निर्भर करती है। अगर आप $100 (2-3 ट्रेड्स प्रति दिन/20 दिन प्रति माह) के साथ शुरुआत करते हैं, तो आप प्रति माह $6 तक कमा सकते हैं।

क्या आप फोरेक्स ट्रेड करके अमीर बन सकते हैं?

बेशक। ऐसे बहुत सारे ट्रेडर्स हैं जो अपने हाई-प्रॉफिट ट्रेड्स को करने का तरीका शेयर करते हैं।

फोरेक्स ट्रेडिंग प्लान में क्या-क्या शामिल होना चाहिए?

इसमें वो सब कुछ शामिल होना चाहिए जिसे आप अपने ट्रेडिंग उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए उपयोगी और महत्वपूर्ण मानते हैं। सुनिश्चित करें कि आपके प्लान में निम्नलिखित चीज़ें शामिल हों: आप जिस समय में ट्रेडिंग करेंगे (M1, M15, M30, 4H, दैनिक, साप्ताहिक, मासिक, आदि), ट्रेडिंग सेशन (सिडनी, टोक्यो, लंदन और न्यूयॉर्क), ट्रेडिंग करने के लिए उपलब्ध रकम, रिस्क मैनेजमेंट तकनीक, ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी, वो समय जो आप ट्रेडिंग को देने के लिए तैयार हैं, लक्ष्यों, एग्जिट और एंट्री के नियम।

क्या मैं अपने आप को फोरेक्स ट्रेड करना सिखा सकता हूँ?

बिल्कुल। इसकी बढ़ती लोकप्रियता के कारण, इंटरनेट पर बहुत सारे एड्यूकेशनल वीडियोज़, और कोर्सिस उपलब्ध हैं। अनुशासन (डिसिप्लिन) और धीरज आपको सेल्फ-एड्यूकेशन के अच्छे परिणाम की ओर ले जाएगा।

क्या शुरुआती लोगों के लिए फोरेक्स ट्रेडिंग अच्छी है?

फोरेक्स ट्रेडिंग को एक बिगिनर-फ्रेंडली इंडस्ट्री माना जाता है - शुरुआती ट्रेडर्स डेमो अकाउंट (ट्रेनिंग अकाउंट) पर ट्रेडिंग करना शुरू कर सकते हैं। एक बार जब उन्हें इसका अधिक अनुभव हो जाता है और असली पैसे निवेश करने के लिए तैयार हो जाते हैं, तो वे एक स्टैंडर्ड अकाउंट खोल सकते हैं।

क्या फोरेक्स ट्रेडिंग एक फुल-टाइम जॉब हो सकती है?

फोरेक्स ट्रेडिंग एक फुल-टाइम जॉब हो सकती है; हालाँकि, यह क्षेत्र बहुत गहरी समझ और अनुभव की मांग करता है। सुनिश्चित करें कि आपके वर्तमान के ट्रेडिंग रिजल्ट्स आपके उद्देश्यों को पूरा करते हैं।

क्या फोरेक्स ट्रेडिंग एक करियर बन सकता है?

फोरेक्स ट्रेडिंग उन लोगों के लिए एक बेहतर विकल्प है जो फ्लेक्सिबल काम के घंटों के साथ एक प्रॉफिटेबल प्रोफेशनल एक्टिविटी का सपना देखते हैं। हालाँकि, एक फुल-टाइम जॉब होने के नाते, यह इस क्षेत्र में बहुत गहरी समझ औरअनुभव की मांग करता है। सुनिश्चित करें कि आपके वर्तमान के ट्रेडिंग रिजल्ट्स आपके उद्देश्यों को पूरा करते हैं।

क्यों फोरेक्स एक बुरा आईडिया है?

फोरेक्स ट्रेडिंग को एक "बुरा आईडिया" नहीं माना जा सकता है। इसे सीखने में अपना समय बिताएं और डेमो अकाउंट पर ट्रेडिंग करना शुरू करें, और देखें कि क्या यह वो एक्टिविटी है जिसे आपको करने में मज़ा आता है। हाँ, लगातार फोरेक्स में ट्रेडिंग करके पैसे "गंवाने" की कई सारी कहानियाँ हैं, लेकिन घूम-फिर-कर यह सब ट्रेडिंग एक्सपर्टीज़ और इस एहसास पर आ जाती है कि यह सब आपके बस का है भी या नहीं। अगर आप रातोंरात अमीर बनने की उम्मीद करते हैं, तो फोरेक्स ट्रेडिंग बेशक आपके लिए एक बुरा आईडिया है।

फोरेक्स ट्रेडिंग सीखने में कितना समय लगता है?

अगर आप दिन के 8-9 घंटे थ्योरेटिकल पार्ट को देते हैं तो फोरेक्स ट्रेडिंग की बेसिक बातों को सीखने में आपको चार हफ्तों तक का समय लग सकता है। डेमो अकाउंट (ट्रेनिंग अकाउंट) खोलने की भी सलाह दी जाती है क्योंकि यह अभ्यास करने और फोरेक्स मार्केट में सब कुछ कैसे काम करता है, इसकी बेहतर समझ प्राप्त करने का यह एक जोखिम-मुक्त तरीका है।

लेखक: Justforex, 13.07.2021

पिछले लेख
सभी लेख
कॉपी ट्रेडिंग का परिचय: फॉरेक्स और अन्य बाजारों में कॉपी ट्रेडिंग कैसे काम करती हैा होना चाहिए
इस गाइड को अच्छे से पढ़े और जानें कि शुरू से अंत और उससे भी आगे के व्यापार को कैसे कॉपी करें। बुनियादी बातों से लेकर तकनीकी और युक्तियों तक, इस ट्रेडिंग रणनीति को विस्तार से समझाया गया है, ताकि आप पूरी जानकारी।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
सोशल ट्रेडिंग: यह क्या है और इसके जरिए पैसे कैसे कमाए जा सकते हैं
सोशल ट्रेडिंग- क्या यह फॉरेक्स ट्रेडिंग में एक नया ट्रेंड है या केवल एक बज़वर्ड? क्या यह मुनाफे वाला है? सोशल ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा प्लेटफार्म कौन सा है?
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
सोशल ट्रेडिंग vs. कॉपी ट्रेडिंग
सोशल ट्रेडिंग और कॉपी ट्रेडिंग: दोनों में क्या फर्क है? एक आर्टिकल के ज़रिए समझने में सरल और आसान, फायदे और नुकसान और सबसे बेहतरीन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें