शुरुआती लोगों के लिए सबसे बेहतरीन फोरेक्स ट्रेडिंग के नियम

शुरुआती लोगों के लिए सबसे बेहतरीन फोरेक्स ट्रेडिंग के नियम

ट्रेडिंग फॉरेक्स कोई रॉकेट साइंस नहीं है, लेकिन यह बहुत अधिक लग सकता है। ऐसा क्यों? शुरूआती लोगों के बारे में बात करें तो, उनके डर का सबसे बड़ा कारण यह है कि वे बहुत अपेक्षाएं रखते हैं। उन्हें सब कुछ यहीं चाहिए और अभी ही चाहिए; इस तरह, वे बेसिक प्रिंसिपल्स को छोड़ देते हैं, नियमों को नज़रअंदाज़ करते हैं, और क्वालिटी से अधिक क्वांटिटी पर ध्यान देते हैं। इस तरह की "स्टाइल" का नतीजा बहुत निराशाजनक है – जो है, फाइनेंशियल रूप से नुकसान, प्रेरणा की कमी और उलझन में फंसना। प्रोफेशनल ट्रेडर्स रातोंरात प्रोफेशनल्स नहीं बन गए। वे अनुशासन और अभ्यास के ज़रिये अपनी विशेषज्ञता को बढ़ाते रहते हैं।

फोरेक्स ट्रेडिंग के टॉप 9 नियम

आइए हम आपको नियमों के बारे में समझाते हैं जो आपको लाइन में बनाए रखेंगे और आपको एक ट्रेडर के रूप में आगे बढ़ने में मदद करेंगे।

भरोसेमंद ब्रोकर

यह आपको बहुत आम बात लग रही होगी, लेकिन बहुत से शुरुआती लोग हैं जो इस महत्वपूर्ण भाग को छोड़ देते हैं और फोरेक्स मार्केट में भरोसेमंद ब्रोकर्स के विश्लेषण के लिए पर्याप्त समय नहीं निकालते हैं। यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है? आपकी ट्रेडिंग स्थितियां उस ब्रोकर पर निर्भर करती हैं जिसके साथ आप काम करते हैं, इसलिए समझदारी से एक ब्रोकर चुनें। आपको ट्रस्ट पायलट जैसे इंडिपेंडेंट प्लेटफॉर्म पर ग्राहकों के रिव्यूज को ध्यान से पढ़ना चाहिए। यही वह जगह है जहां ट्रेडर्स बिना किसी मार्केटिंग ट्रिक्स के अपना अनुभव साझा करते हैं। आपको बस सच जानने की ही ज़रूरत है।

और अधिक पढ़ें: 2021 में शुरुआती लोगों के लिए फोरेक्स ट्रेडिंग

एक डेमो अकाउंट के साथ शुरुआत करें

प्रैक्टिस करने से इंसान परफेक्ट बनता है। एक शुरूआती होने के नाते, आपके पास यह देखने का मौका है कि कैसे मार्केट अंदर से बाहर काम करता है और बिना कोई पैसे डिपॉजिट किए व्यापारिक संचालन करता है। यहां तक ​​कि प्रोफेशनल ट्रेडर्स भी असली अकाउंट पर इस्तेमाल करने से पहले रणनीतियों को आज़माने के लिए डेमो अकाउंट का इस्तेमाल कर सकते हैं। याद रखने वाली सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि डेमो अकाउंट पर आपका ट्रेडिंग करने का तरीका हमेशा असली अकाउंट से अलग ही होगा क्योंकि असली पैसे डिपॉजिट करना और ट्रेड खोलना/बंद करना आपको अधिक सतर्क बनाता है। उम्मीद है।

कम भावनाएं, अधिक चेतना

आपकी मानसिक स्थिति आपके फैसलों को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है। ऐसे अनगिनत ट्रेडर्स हैं जो भावुक होने के कारण लगातार पैसा खोते रहते हैं। बात यह है कि एड्रेनालाईन आपको घने जंगल में ले जा सकता है। अपने भावुक हिस्से से कैसे निपटा जाए, इस बारे में सलाह दे पाना मुश्किल है क्योंकि यह आपकी जिम्मेदारी है। तार्किकता (लॉजिकल थिंकिंग) को प्राथमिकता दें और कोई भी कदम उठाने से पहले हमेशा सोचें।

अपनी समय सीमा चुनें

ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म में कई समय सीमा उपलब्ध होती हैं: 1 मिनट, 5 मिनट, 15 मिनट, 30 मिनट, 1 घंटा, 4 घंटे, दैनिक, साप्ताहिक और मासिक। ट्रेड करने की समय सीमा को निर्धारित किए बिना, इसकी बहुत बड़ी संभावना है कि आपकी एनालिसिस बेकार हो जाएगी। उदाहरण के तौर पर, 4-घंटे की समय-सीमा डाउनट्रेंड प्रदर्शित कर सकती है, जबकि 1 घंटे की समय-सीमा अपट्रेंड प्रदर्शित कर सकती है। उस समय-सीमा को निर्धारित करें जो आपकी ट्रेडिंग की अपेक्षाओं को पूरा करता है और फिर उसी पर ध्यान केंद्रित करें।

ट्रेड करने की समय सीमा को निर्धारित किए बिना, इसकी बहुत बड़ी संभावना है कि आपकी एनालिसिस बेकार हो जाएगी।

पैसे

आपके ट्रेडिंग अकाउंट में पैसे वह रकम हैं जिसे आपके फाइनेंशियल प्लान्स में महत्वपूर्ण भूमिका नहीं निभानी चाहिए। याद रखें कि आपके अनुभव की कमी से लेकर बाजार को प्रभावित करने वाली घटनाओं के अप्रत्याशित मोड़ से शुरू होने वाली विभिन्न स्थितियों के कारण ट्रेडिंग में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। इसलिए, जोखिम भरी स्थितियों से सफलतापूर्वक बाहर निकलने के लिए आपको छोटे-छोटे नुकसानों के लिए मनोवैज्ञानिक रूप से तैयार रहना चाहिए।

कीमत को फॉलो करें

मार्केट बहुत तेज़ी से आगे बढ़ रहा है; आपको खरीदने के अवसरों की तलाश करनी चाहिए। अगर माकेट नीचे की ओर जा रहा है, तो यह बेचने के अवसरों का संकेत है। आपका फैसला हमेशा फैक्ट्स पर आधारित होना चाहिए और जब कोई फैक्ट्स नहीं हों - ट्रेंड जो आप देखते हैं वही मायने रखता है।

ट्रेडिंग स्टाइल

आपकी ट्रेडिंग स्टाइल आपके व्यक्तित्व पर निर्भर करती है। उदाहरण के तौर पर, अगर आप अपने कार्य दिवस को एक ओपन पोजीशन के साथ खत्म करने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं, तो डे ट्रेडिंग आपके लिए बिल्कुल सही है। या इसके बिल्कुल विपरीत – पोजिशन ट्रेडिंग. यह वह जगह है जहां एक व्यक्ति मार्केट पर लगातार नज़र रखे बिना लंबे समय तक पोजीशन पकड़ कर रखता है।

आपकी ट्रेडिंग स्टाइल आपके व्यक्तित्व पर निर्भर करती है।

विश्लेषण लागू करें

अपनी गलतियों से सीखने की आदत डालें। अनुभवी ट्रेडर्स ने अपने विश्लेषण को अपनी ट्रेडिंग एक्टिविटीज का एक हिस्सा बना दिया है। सप्ताहांत पर अपना विश्लेषण शुरू करना एक अच्छा आईडिया है क्योंकि तब मार्केट बंद होता है, और आप सिर्फ उन समस्याओं पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं जो सप्ताह के दौरान हुई थीं जिन्हें भविष्य में नज़रअंदाज़ नहीं किया जाना चाहिए। एक बार जब आपके पास अधिक अनुभव आ जाता है और आप एक्सपर्ट बन जाते हैं, तो आप अपनी ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी की प्रभावशीलता का आकलन करने के लिए समय की बेहतर समझ हासिल कर लेंगे।

फंडामेंटल और तकनीकी विश्लेषण

जब फंडामेंटल एनालिसिस की बात आती है, तो ट्रेडर्स मुख्य रूप से एक निश्चित देश के आर्थिक कल्याण यानि कि उसकी करेंसी पर ध्यान केंद्रित करते हैं। ऐसे अन्य कारक भी हैं जिन्हें अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए, जैसे कि राजनीतिक स्थिति, सरकारी नीति, इन्फ्लेशन और GDP डेटा इत्यादि। लिस्ट वास्तव में लंबी है; खराब मौसम की वजह से भी करेंसी की स्थिरता प्रभावित हो सकती है।

इस तरह का विश्लेषण फैसला लेने में कैसे मदद कर सकता है? खैर, ट्रेडर्स किसी भी करेंसी का वास्तविक मूल्य निर्धारित कर सकते हैं – चाहे वह वैल्यू से ज़्यादा हो – या कम हो। अगर यह वैल्यू से ज़्यादा है, तो एक ट्रेडर करेंसी बेचने पर विचार करेगा। इसके विपरीत, अगर यह वैल्यू से कम है, तो यह एसेट खरीदने के लिए सही है।

तकनीकी विश्लेषण के मामले में, ट्रेडर्स एसेट की दिशा का पता लगाने के लिए ऐतिहासिक कीमतों के आधार पर मार्केट के आंकड़ों के विश्लेषण में लग जाते हैं। इस स्थिति में कई सारे चार्ट्स का इस्तेमाल करके पैटर्न की पहचान की जा सकती है। टेक्निकल इंडीकेटर्स भी मार्केट के मूल्य का आकलन करने में काफी मददगार साबित हो सकते हैं; यह उनमें से कुछ हैं: बोलिंगर बैंड, MACD, RSI, और अन्य। तो, हमारे पास दो पूरी तरह से अलग तरह के विश्लेषण हैं, लेकिन यह वह जगह है जहां यह कॉम्बिनेशन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और आपकी ट्रेडिंग की उपलब्धियों को अगले लेवल तक लेकर जाता है।

अंतिम शब्द

फोरेक्स ट्रेडिंग के नियमों का पालन करना फायदेमंद है। यह आपको अधिक व्यवस्थित और स्थिर बनाता है। एक ही बार में सब कुछ समझने की कोशिश न करें - स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस अपनाएं जो आपको जोखिम भरी स्थितियों से बचाएगी। उदाहरण के तौर पर, आप एक साथ तीन करेंसी पेयर्स पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं और जानकारी के समुद्र में खो सकते हैं, या आप सिर्फ एक करेंसी पेअर पर ट्रेड शुरू करके अपनी विशेषज्ञता बढ़ा सकते हैं। हाँ, इसमें समय और मेहनत लगती है, लेकिन किस काम में नहीं लगती?

Justforex के बारे में

Justforex एक अंतरराष्ट्रीय ब्रोकर है जिसके पास 197 देशों से क्लाइंट्स हैं। लाखों लोगों ने सबसे अच्छे हालातों का फायदा उठाने के लिए Justforex पर पहले से ही ट्रेडिंग अकाउंट खोल रखे हैं, जिसमें कम स्प्रेड, कमीशन-फ्री विड्रॉवल और सहायता के लिए एक टीम शामिल है, जो यह सुनिश्चित करने के लिए चौबीसों घंटे काम करती है कि हमारा हर एक क्लाइंट सुविधाजनक ट्रेडिंग अनुभव प्राप्त कर सके।

करंसी ट्रेडिंग में अपना हाथ आज़माने के लिए Justforex पर एक डेमो अकाउंट खोलें। यह फाइनेंशियल मार्केट में ट्रेडिंग करना सीखने का सबसे सुरक्षित तरीका है। पैसे निवेश करने से पहले एक टीचिंग अकाउंट आपको ट्रेडिंग की बेसिक बातें सीखने और अपनी खुद की स्ट्रेटेजी बनाने में मदद करेगा। अपने भविष्य को संवारने के लिए आज ही ट्रेडिंग करना सीखें।

लेखक: Justforex, 28.08.2021

पिछले लेख
सभी लेख
भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए गाइड
जानें कि भारत में फोरेक्स मार्केट में ट्रेडिंग कैसे शुरू की जाती है। कर्रेंसीज को ट्रेड करने के लिए सबसे अच्छा ब्रोकर और सबसे अच्छा समय चुनें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
क्या फॉरेक्स निवेश के लायक है?
क्या यह फॉरेक्स ट्रेडिंग शामिल होने लायक है? फॉरेक्स ट्रेड के लाभों के बारे में जानें और पता करें कि क्या यह आपके समय के लायक है।के लिए इस लेख को पढ़ें।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
क्रिप्टोकरेंसी को कैसे खरीदें और बेचें5 तरीके
क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग के लिए स्टेप-बाय-स्टेप गाइड। नुकसान से कैसे बचें? कौन से कोइन्स खरीदें? क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और जोखिम।मार्केट ट्रेडिंग कहां से सीखें?
ज़्यादा जानकारी पढ़ें