AML पॉलिसी

मनी लॉन्ड्रिंग अवैध गतिविधियों (जैसे धोखाधड़ी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, आदि) से प्राप्त धन को अन्य निधियों या निवेशों में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है जिसमे धन के वास्तविक स्रोत को छिपाके या ग़लतबयानी करके वैध दिखाया जाता हैं।

मनी लॉन्ड्रिंग की प्रक्रिया को 3 क्रमिक चरणों में विभाजित किया जा सकता है:
  • प्लेसमेंट। इस चरण में, धन को चेक, बैंक खाते, धन हस्तांतरण जैसे वित्तीय साधनों में परिवर्तित किया जाता है या उसका उपयोग उच्च मूल्य के सामान खरीदकर उन्हें बेचने के लिए किया जा सकता है। उन्हें बैंकों और गैर-बैंक संस्थानों (जैसे, मुद्रा विनिमयकर्ता) में भौतिक रूप से जमा भी किया जा सकता है। कंपनी की ओर से संदेह से बचने के लिए, अपराधी एक बार में पूरी राशि जमा करने के बजाय, कई हिस्सों में भी राशि जमा कर सकता है; प्लेसमेंट के इस रूप को स्मर्फिंग कहा जाता है।
  • लेयरिंग। धन को अन्य खातों और अन्य वित्तीय साधनों में स्थानांतरित किया जाता है। यह स्रोत को छिपाने और लेनदेन करने वाली संस्था के संकेत को बाधित करने के लिए किया जाता है। धन को इधर-उधर ले जाना और उसका रूप बदलना मनी लॉन्ड्रिंग का पता लगाना जटिल बना देता है।
  • एकीकरण। सामान और सेवाओं की खरीद के लिए धन वैध रूप में वापस प्रचलन में आ जाता है।

परिचय

Justforex, वित्तीय मार्केट में सेवाएं प्रदान करने वाली अधिकतर कंपनियों की तरह, एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग सिद्धांतों का पालन करता है और अवैध रूप से प्राप्त धन के वैधीकरण की सुविधा प्रदान करने वाली किसी भी प्रक्रिया को सक्रिय रूप से रोकता है। AML पॉलिसी का अर्थ है मनी लॉन्ड्रिंग, आतंकवाद वित्तपोषण, या अन्य आपराधिक गतिविधियों के उद्देश्य से अपराधियों द्वारा कंपनी की सेवाओं के उपयोग को रोकना।

इस उद्देश्य के लिए, कंपनी ने किसी भी संदिग्ध गतिविधियों के संबंधित निकायों का पता लगाने, उनको रोकने और चेतावनी देने के लिए एक सख्त पॉलिसी पेश की।

इसके अलावा, कंपनी को ग्राहकों को यह सूचित करने का कोई अधिकार नहीं है कि कानून प्रवर्तन निकायों को उनकी गतिविधि के बारे में सूचित किया गया है। प्रत्येक कंपनी के ग्राहक की पहचान करने और सभी परिचालनों का विस्तृत इतिहास संचालित करने के लिए एक जटिल इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली भी शुरू की गई है।

मनी लॉन्ड्रिंग को रोकने के लिए, कंपनी किसी भी परिस्थिति में न तो नकद स्वीकार करती है और न ही भुगतान करती है। कंपनी किसी भी ग्राहक के संचालन को बंद करने का अधिकार रखती है जिसे कर्मचारियों की राय में अवैध या मनी लॉन्ड्रिंग से संबंधित माना गया हो।

कंपनी के सभी कर्मचारियों को पॉलिसी के बारे में सूचित किया जाना चाहिए जो किसी भी तरह से ग्राहकों की लेन-देन का प्रबंधन, निगरानी या नियंत्रण करते हैं और वे निर्धारित कार्यो, उपायों, प्रक्रियाओं और नियंत्रणों को लागू करने के लिए जिम्मेदार हैं। यह पॉलिसी कंपनी के सभी अधिकारियों, नामित कॉन्ट्रैक्टर्स, एजेंटों और कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले उत्पादों और सेवाओं पर भी लागू होती है। मनी लॉन्ड्रिंग के खिलाफ एकजुट लड़ने के लिए कंपनी की सभी व्यावसायिक इकाइयां सहयोग देगी।

इस पॉलिसी की उपयुक्तता, कार्यसाधकता और पर्याप्तता एक स्वतंत्र आंतरिक ऑडिट का विषय है।

कंपनी की कार्यप्रणाली

कंपनी यह सुनिश्चित करती है कि वह एक वास्तविक व्यक्ति या वैध संस्था के साथ काम कर रही है। कंपनी संबंधित प्राधिकारी द्वारा जारी किए गए कानूनों और विनियमों के अनुसार सभी आवश्यक कदम भी उठाती है। AML पॉलिसी कंपनी के भीतर निम्नलिखित माध्यम से पूरी की जा रही है:
  • अपने ग्राहक को जानिए पॉलिसी और सम्यक जांच-पडताल;
  • ग्राहक की गतिविधि की निगरानी;
  • रिकॉर्ड रखना।

कंपनी ग्राहक की प्रकृति, ग्राहक के व्यवहार, कंपनी के साथ ग्राहक के प्रारंभिक संचार के साथ-साथ कंपनी की सेवाओं और प्रतिभूतियों के आधार पर जोखिमों का आकलन और मूल्यांकन करती है।

अपने ग्राहक को जानिए और सम्यक जांच-पडताल

AML और KYC पॉलिसी के प्रति कंपनी की प्रतिबद्धता के कारण, कंपनी के प्रत्येक ग्राहक को सत्यापन प्रक्रिया पूरी करनी होती है। इससे पहले कि कंपनी ग्राहक के साथ कोई सहयोग शुरू करे, कंपनी यह सुनिश्चित करती है कि संतोषजनक प्रमाण प्रस्तुत किया जाए या ऐसे अन्य उपाय किए जाएं जिससे किसी ग्राहक या प्रतिपक्ष की पहचान का संतोषजनक प्रमाण मिल सके। कंपनी उन ग्राहकों के लिए भी उच्च जांच लागू करती है, जो विश्वसनीय स्रोतों द्वारा पहचाने गए ऐसे देशों के निवासी हैं, जहा अपर्याप्त AML मापदंड हैं या जहा अपराध और भ्रष्टाचार होने का उच्च जोखिम हैं, और ऐसे लाभकारी उपभोक्ता जो उन नामक देशो में निवास करते है और जिनका धन उन देशो से प्राप्त किआ गया हो।

व्यक्तिगत ग्राहक

पंजीकरण की प्रक्रिया के दौरान, प्रत्येक ग्राहक व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करता है, विशेष रूप से: पूरा नाम, जन्म तिथि, जन्म स्थान, निवास का पता, व्यवसाय का पता, फोन नंबर और शहर का कोड।

व्यक्तिगत ग्राहक KYC आवश्यकताओं के कारण और निर्दिष्ट जानकारी की पुष्टि करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ (यदि दस्तावेज़ गैर-लैटिन वर्णों में लिखे गए हैं, तो सत्यापन प्रक्रिया में किसी भी देरी से बचने के लिए, दस्तावेज़ का अंग्रेजी में नोटरीकृत अनुवाद प्रदान करना आवश्यक है) भेजते है:

पहचान को निम्नलिखित द्वारा सत्यापित किया जाना चाहिए:
  • मान्य पासपोर्ट; या
  • राष्ट्रीय ID कार्ड; या
  • तस्वीर के साथ वर्तमान ड्राइविंग लाइसेंस; या
  • सरकार द्वारा जारी अन्य पहचान दस्तावेज।

निर्दिष्ट दस्तावेजों में निम्नलिखित शामिल होने चाहिए: ग्राहक का पूरा नाम, जन्म तिथि, फोटो और नागरिकता, और जहां लागू हो: दस्तावेज़ की वैधता की पुष्टि (जारी और/या समाप्ति तिथि), और धारक के हस्ताक्षर।

निर्दिष्ट दस्तावेज दाखिल करने की तारीख से कम से कम 6 महीने के लिए वैध होने चाहिए।

पहचान प्रक्रिया और CDD आवश्यकताओं से संबंधित प्रावधानों के प्रयोजनों के लिए, पहचान का प्रमाण संतोषजनक है यदि:
  • यह स्थापित करना संभव है कि ग्राहक वही व्यक्ति है जिसका होने का वह दावा कर रहा है; और,
  • प्रमाण की जांच करने वाला व्यक्ति प्रासंगिक कानून और विनियमों के तहत पालन की जाने वाली प्रक्रियाओं के अनुसार आश्वस्त है कि ग्राहक वास्तव में वही व्यक्ति है जिसका वह होने का दावा कर रहा है।
वर्तमान निवास का पता निम्नलिखित में से किसी एक द्वारा सत्यापित किया जाएगा:
  • हाल ही का उपयोगिता बिल; या
  • बैंक स्टेटमेंट; या
  • क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट (मासिक); या
  • टैक्स पहचान नंबर, सामाजिक सुरक्षा नंबर या सरकारी सेवा और बीमा प्रणाली नंबर।

उपयोगिता बिल, बैंक स्टेटमेंट और क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट फाइलिंग की तारीख से 3 महीने से अधिक पुराने नहीं होने चाहिए। जबकि ग्राहक के टैक्स पहचान नंबर, सामाजिक सुरक्षा नंबर, या सरकारी सेवा और बीमा प्रणाली नंबर की एक कॉपी कंपनी के अनुरोध पर मूल देश में अपॉस्टिल (मुहर और हस्ताक्षर) करनी होगी।

जहां प्रमाणीकरण की आवश्यकता है, दस्तावेजों को निम्नलिखित में से किसी एक द्वारा प्रमाणित किया जाना चाहिए:
  • जज;
  • मजिस्ट्रेट;
  • नोटरी पब्लिक;
  • बैरिस्टर-एट-लॉ;
  • सॉलिसिटर;
  • कानूनी वकील; या
  • शपथ आयुक्त।

जहां लागू हो वहां जमा किए गए दस्तावेज़ के दोनों तरफ़ की आवश्यकता होती है (उदाहरण के लिए, ID या ड्राइविंग लाइसेंस)। दस्तावेज़ की छवि रंगीन, उच्च-रिज़ॉल्यूशन फ़ोटो या स्कैन कॉपी होनी चाहिए जिसमें कोई धुंधलापन, प्रकाश का प्रतिबिंब या छाया न हो। दस्तावेज़ के चारो कोने दिखाई देने चाहिए। सभी जानकारी स्पष्ट रूप से दिखनी चाहिए, और उसमे कोई भी वॉटरमार्क नहीं होना चाहिए।

कंपनी प्रत्येक खाते के लिए, प्रारंभिक लेनदेन से पहले, खाते पर लागू होने वाली सीमा तक निम्नलिखित जानकारी प्राप्त करने के लिए उचित प्रयास करेगी:
  • ग्राहक का व्यवसाय;
  • ग्राहक के निवेश का उद्देश्य और ग्राहक की वित्तीय स्थिति और जरूरतों से संबंधित अन्य जानकारी;
  • वार्षिक आय, संपत्ति या निवल संपत्ति।

कॉर्पोरेट ग्राहक

यदि आवेदक कंपनी किसी मान्यता प्राप्त या अनुमोदित स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध है या कोई स्वतंत्र प्रमाण है जिससे साबित होता है कि आवेदक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है या ऐसी कंपनी के नियंत्रण में सहायक है, तो पहचान को सत्यापित करने के लिए और कोई कदम आवश्यक नहीं होगा।

यदि कंपनी सूचीबद्ध नहीं है और कोई भी प्रिंसिपल डायरेक्टर या शेयरहोल्डर्स का कंपनी के साथ खाता नहीं है, तो KYC की आवश्यकताओं के कारण अधिकारी को निम्नलिखित दस्तावेज प्रदान करने होंगे:
  • पंजीकरण प्रमाणपत्र/निगमन प्रमाणपत्र की कॉपी;
  • मेमोरेंडम एंड आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन, साझेदारी समझौता, या समकक्ष दस्तावेज़ की कॉपी;
  • उप-नियमों और नवीनतम सामान्य सूचना पत्र की कॉपी, जिसमें निदेशकों/साझेदारों और प्रमुख शेयरधारकों और द्वितीयक लाइसेंस के नाम सूचीबद्ध हो;
  • वाणिज्यिक रजिस्टर या समकक्ष दस्तावेज़ के उद्धरण, जिससे कॉर्पोरेट कार्यो और सुधार के पंजीकरण साबित होते हो और कानूनी व्यक्ति की वर्तमान स्थिति जैसे कि अच्छी स्थिति का प्रमाण पत्र;
  • पदग्राही के प्रमाणपत्र की कॉपी जो फाइलिंग की तारीख से 3 महीने से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए;
  • स्वतंत्र और विश्वसनीय स्रोतों से कंपनी के BO के बारे में जानकारी;
  • सभी निदेशकों, शेयरधारकों, बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स और कानूनी व्यक्ति के KYC दस्तावेज जहां लागू हो;
  • उपयुक्त बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स के संकल्प और हस्ताक्षरित आवेदन पत्र या अकाउंट ओपनिंग, जिनसे खाता खोलने के लिए, ट्रेड के लिए अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता या अधिकृत निगम के प्रमुख अधिकारी की पहचान हो सके और उनके प्राधिकारी और नमूना हस्ताक्षर;
  • कानूनी व्यक्ति के पंजीकृत पते और व्यवसाय के वास्तविक स्थान का प्रमाण;
  • नवीनतम ऑडिट किए गए वित्तीय स्टेटमेंट;
  • जहां लागू हो, कंपनी को ग्राहकों के व्यवसाय के बारे में अतिरिक्त जानकारी की भी आवश्यकता हो सकती है, जैसे व्यवसाय का विवरण और प्रकृति (व्यवसाय की शुरुआत की तारीख, प्रदान किए जाने वाले उत्पाद या सेवाएं, और व्यवसाय का प्रमुख स्थान, आदि)।

यह प्रक्रिया ग्राहक की पहचान स्थापित करने और कंपनी को ग्राहकों और उनके वित्तीय व्यवहारों को जानने/समझने में मदद करने के लिए एवं ऑनलाइन ट्रेडिंग की सर्वोत्तम सेवाएं प्रदान करने के लिए की जाती है।

अतिरिक्त प्रावधान

यदि, व्यावसायिक संबंध के दौरान, कोई ग्राहक उचित समय-सीमा के भीतर, आवश्यक सत्यापन डेटा और जानकारी प्रस्तुत करने में विफल रहता है या प्रस्तुत करने से इनकार करता है, तो कंपनी ग्राहक से व्यावसायिक संबंध समाप्त कर देगी और उनके सभी खातों को बंद कर देगी।

व्यक्तिगत ग्राहकों और कॉर्पोरेट ग्राहकों के संबंध में ग्राहक सम्यक जांच-पडताल को किसी भी परिवर्तन के तुरंत बाद अपडेट और/या संशोधित किया जाएगा। यह निवास या व्यावसायिक पते, नए पहचान पत्र, नया पासपोर्ट, अतिरिक्त व्यावसायिक जानकारी, नई व्यावसायिक प्रतिभूतियों/उद्यम जैसे परिवर्तन पर लागू होता है। उक्त अवधि से पहले किसी भी सूचना परिवर्तन के लिए, कंपनी किए जा रहे परिवर्तनों से संबंधित पत्र या दस्तावेज का अनुरोध करती है।

ग्राहक की गतिविधि पर निगरानी

ग्राहकों से जानकारी इकट्ठा करने के अलावा, कंपनी किसी भी संदिग्ध लेनदेन की पहचान करने और उसे रोकने के लिए हर ग्राहक की गतिविधि पर निगरानी रखती है। संदिग्ध लेनदेन एक ऐसी लेनदेन है जो ग्राहक के वैध व्यवसाय या ग्राहक के लेनदेन के इतिहास के साथ असंगत है। कंपनी ने अपराधियों द्वारा कंपनी की सेवाओं का उपयोग रोकने के लिए नामित लेनदेन (दोनों स्वचालित और, यदि आवश्यक हो तो मैनुअल) पर निगरानी की प्रणाली को लागू किया है।

कंपनी किसी भी ग्राहक के संचालन को, जिसे कंपनी के कर्मचारियों की राय में अवैध या मनी लॉन्ड्रिंग से संबंधित माना गया हो, उसे बंद करने का अधिकार रखती है।

मनी लॉन्ड्रिंग के जोखिम को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए ग्राहकों के खातों और लेनदेन की निरंतर निगरानी करना अनिवार्य है।

जमा और निकासी की आवश्यकताएं

ग्राहकों द्वारा धन जमा करने और निकासी के सभी कार्यों की निम्नलिखित आवश्यकताएं हैं:
  • बैंक हस्तांतरण या बैंक कार्ड से स्थानांतरण के मामले में, पंजीकरण के दौरान दर्शाया गया नाम खाते/बैंक कार्ड के मालिक के नाम से मेल खाना चाहिए। केवल बैंक हस्तांतरण के माध्यम से खाते से धनराशि निकालना संभव है और वह भी उसी बैंक और खाते में जिसका उपयोग आपने राशि जमा करने के लिए किया था;
  • इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली का उपयोग करने के मामले में, ट्रेडिंग खाते से धन की निकासी, जमा करने के लिए उपयोग किए जाने वाले सिस्टम और खाते में ही संभव है;
  • यदि खाते में ऐसी विधि से धन जमा किया गया है जिसका उपयोग धन निकासी के लिए नहीं किया जा सकता, तो ग्राहक के बैंक खाते में धनराशि वापस ली जा सकती है या किसी अन्य तरीके का उपयोग किया जा सकता है, जिससे कंपनी सहमत हो, और जिससे कंपनी खाता धारक की पहचान साबित कर सके;
  • यदि खाते में विभिन्न भुगतान प्रणालियों के माध्यम से धनराशि जमा की गई है, तो प्रत्येक जमा राशि के मात्रा के अनुसार धन निकासी की जाएगी। प्राप्त हुए लाभ को जमा करते समय उपयोग किये जाने वाले किसी भी खाते में स्थानांतरित किया जा सकता है, अगर यह हस्तांतरण संभव है;
  • किसी तीसरे पक्ष के बैंक खाते, बैंक कार्ड, इलेक्ट्रॉनिक धन या किसी अन्य प्रकार के भुगतान खातों में जमा और निकासी की अनुमति नहीं है।

रिकॉर्ड रखना

उपयुक्त AML कानूनों/विनियमों के तहत ग्राहक पहचान (KYC पॉलिसी आवश्यकता), प्रत्येक लेनदेन के सभी डेटा, साथ ही ML से संबंधित अन्य जानकारी के उद्देश्य के लिए प्राप्त सभी दस्तावेजों के रिकॉर्ड रखे जाएंगे।

निम्नलिखित दस्तावेज़ प्रतिधारण अवधि का पालन किया जाएगा:
  • ग्राहकों के खाते खोलने के सभी दस्तावेज और उनके सभी लेनदेन के रिकॉर्ड, विशेष रूप से ग्राहक पहचान रिकॉर्ड, लेन-देन की तारीख से सात (7) वर्षों के लिए मेन्टेन किए जाएंगे और सुरक्षित रूप से संग्रहीत किए जाएंगे;
  • बंद खातों के लिए, ग्राहक की पहचान, खाता फाइलों और व्यावसायिक पत्राचार के रिकॉर्ड को बंद होने की तारीख से कम से कम सात (7) वर्षों के लिए संरक्षित और सुरक्षित रूप से संग्रहीत किया जाएगा।